Cinema70mm – 
 मिथुन चक्रवर्ती को  भारतीय  फ़िल्म जगत में  बड़े अभिनेता के तौर पर जाना  जाता है ।  अपने अभिनय के लिए उनको तीन राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके है   । लेकिन  बड़े एक्टर के साथ भी कभी कभार कुछ ऐसा घटित  हो जाता  है  जो बाद में चर्चा का विषय बन जाता है । मिथुन अपने ग़ुस्से को लेकर काफ़ी मशहूर रहे है । एक क़िस्सा मिथुन के बारे में चर्चित  है । 35 साल पहले जब एक बड़े डायरेक्टर से भिड़ गए थे मिथुन  । क़िस्सा कुछ ये है  कि समय साल 1988 का था जब  दादा  मनमोहन देसाई से भिड़  गये थे और उनके इस गुस्से के कारण उनकी एक फ़िल्म गड्ढे में चली गई  थी ।
उस समय मिथुन मनमोहन देसाई की फिल्म गंगा जमुना सरस्वती में काम कर रहे थे । जिसमें उनके  साथ अमिताभ बच्चन, जितेंद्र, मीनाक्षी शेषाद्रि, जयाप्रदा, अमरीश पुरी और निरूपा रॉय  मुख्य भूमिका में थे ।  इस फिल्म के बनने  के दौरान कुछ ऐसा हुआ की  इसके बाद मिथुन गुस्से से आग बबूला हो गए और उन्होंने मनमोहन देसाई की अगली फिल्म में काम करने से  साफ तौर पर मना कर दिया था । 
80 के दशक में मिथुन फिल्मों में मुख्य भूमिका निभाते थे । गंगा जमुना सरस्वती की स्टोरी मनमोहन देसाई ने जब मिथुन  को सुनाई तो उन्हें  अपना रोल पसंद आया लेकिन जब फिल्म की शूटिंग खत्म हुई  और जब  मिथुन ने फाइनल  प्रिंट देखा तो  सुनाई गई कहानी के अनुसार फ़िल्म से उनके कुछ सीन काट दिये गये थे   ।   उनका किरदार को छोटा कर दिया गया था ।
इसके बाद  मिथुन  गुस्से से लाल पीले हो गए और जब फिल्म की डबिंग का समय  आया तो मिथुन ने कुछ सीन  की डबिंग करने से साफ मना कर दिया । और फ़िल्म की डबिंग छोड़ कर चले गये । इसके बाद दादा ने  मनमोहन देसाई को साफ बोल दिया कि वह उनकी अगली  फिल्म में काम नहीं करेंगे ।  उन्होंने कहा की  “मिथुन को अपनी अगली फिल्म रोजी-रोटी में लेने का ख्याल अपने दिमाग से निकाल देना ” । 
दरअसल  गंगा जमुना सरस्वती फिल्म के समय मनमोहन देसाई अपनी अगली फ़िल्म की कास्टिंग कर रहे थे और वो चाहते थे की मिथुन उनकी फिल्म में  काम करें । फ़िल्म में अपने सीन के काटे  जाने से नाराज़ मिथुन ने कुछ सीन की डाबिंग नहीं की थी । 
इसके बाद  मनमोहन देसाई ने बचे हुए सीन  की डबिंग मिमिक्री आर्टिस्ट सुदेश भोसले से करवाई ।   
लेकिन कुछ समय  बाद जब फिल्म का वीडियो कैसेट आया तो उसमें मिथुन के सभी सीन  में मिथुन की  अपनी आवाज थी । इसके बाद लोग आज तक इस राज़ का पता नहीं चला की   मिथुन की आवाज कैसी आई ? क्या मनमोहन देसाई और मिथुन में  समझौता हो गया था ।  35 साल पहले यह फिल्म 80 लाख के बजट में बनी थी । फिल्म को लेकर काफ़ी उम्मीद थी । लेकिन  फिल्म  सुपर फ्लॉप साबित हुई। 
Share.

Leave A Reply

Exit mobile version